73वां गणतंत्र दिवस आज, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल वॉर मेमोरियल पहुंचकर सैनिकों को दी श्रद्धांजलि

परेड में भारतीय सेनाओं ने दिखाई अपनी ताकत की झलक, वहीं विभिन्न राज्यों की सांस्कृतिक झांकियों ने बिखेरे अपने रंग

73वां गणतंत्र दिवस आज, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल वॉर मेमोरियल पहुंचकर सैनिकों को दी श्रद्धांजलि

जयपुर आज देश 73वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। बुधवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल वॉर मेमोरियल पहुंचकर देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान पीएम के साथ रक्षा मंत्री, राजनाथ सिंह, रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट, रक्षा सचिव अजय कुमार और सेना के तीनों अंगों यानि थलसेना, वायुसेना और नौसेना के प्रमुख मौजूद रहे।

15 मिनट बाद यानी सुबह 10.15 बजे पीएम राजपथ पहुंचे। इसके बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का काफिला घोड़ों पर सवार प्रेसीडेंट बॉडीगार्ड्स के साथ राजपथ पहुंचा। जहां प्रधानमंत्री ने उनका स्वागत किया। जिसके बाद 10.26 पर ध्वजारोहण और राष्ट्रगान हुआ और 21 तोपों की सलामी दी गई।

10.28 मिनट पर राष्ट्रपति सलामी मंच पर जम्मू-कश्मीर पुलिस के एएसआई बाबू राम को मरणोपरांत अशोक चक्र प्रदान किया गया। उनकी पत्नी रीता रानी शांति काल में वीरता का सबसे बड़ा पदक ग्रहण किया। राजपथ पर 90 मिनट तक परेड की गई। जिसके बाद थलसेना, वायुसेना और नौसेना का फ्लाई पास्ट शुरू किया गया।

मेगा फ्लाईपास्ट में उड़े 75 एयरक्राफ्ट :
परेड में 75 एयरक्राफ्ट का मेगा फ्लाइ पास्ट किया गया। इस दौरान कॉकपिट में बैठे पायलट्स ने इसे लाइव स्ट्रीम भी किया। राजपथ के ऊपर राफेल विमान भी गरजे और ध्रुव हेलिकॉप्टर्स ने आसमान में तिरंगा फहराया। पांच राफेल फाइटर जेट्स ने विनाश फॉर्मेशन में उड़ान भरी। 75 एयरक्राफ्ट्स ने पहली बार मेगा फ्लाईपास्ट किया है।

विशेष परिधान में दिखाई दिए मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वॉर मेमोरियल पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद राजपथ पहुंचे, यहां उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का स्वागत किया। राष्ट्रगान के साथ 21 तोपों की सलामी दी गई और 4 Mi-17V5 हेलिकॉप्टर्स से पुष्प वर्षा के साथ परेड शुरू हुई। परेड में भारतीय सेनाओं ने अपनी ताकत की झलक दिखाई तो विभिन्न राज्यों की सांस्कृतिक झांकियों ने अपने रंग बिखेरे। इस दौरान नरेंद्र मोदी विशेष परिधान में नजर आए। उन्होंने ब्रह्मकमल वाली उत्तराखंडी टोपी पहन रखी थी।