बालोतरा को जिला नहीं बनाने से नाराज कांग्रेस विधायक मदन प्रजापत ने जूते-चप्पल त्यागे

बालोतरा को जिला नहीं बनाने से नाराज कांग्रेस विधायक मदन प्रजापत ने जूते-चप्पल त्यागे

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज विधानसभा में अपनी सरकार का चौथा बजट पेश किया। इस बजट में भले ही मुख्यमंत्री ने सभी वर्गों को साधने का दावा किया, लेकिन सरकार के बजट से कांग्रेस पार्टी के विधायक ही खुश नहीं रहे। बालोतरा को जिला बनाए जाने की घोषणा बजट में नहीं होने से नाराज बाड़मेर के पचपदरा विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक मदन प्रजापत ने अब जूते-चप्पल त्याग दिए हैं।
उन्होंने आज विधानसभा के बाहर अपने जूते और चप्पल त्याग दिए और नंगे पैर ही घर के लिए रवाना हुए। उन्होंने कहा कि जब तक बालोतरा को जिला घोषित नहीं किया जाएगा तब तक मैं नंगे पैर ही रहेंगे और विधानसभा में प्रश्न लगाना भी बंद करेंगे। विधायक मदन प्रजापत ने बजट से पहले ही इस बात की घोषणा कर दी थी कि अगर बजट में बालोतरा को जिला बनाने की घोषणा नहीं होती है तो वह अपने जूते और चप्पल त्याग देंगे।
विधायक मदन प्रजापत ने कहा-रघुकुल रीत सदा चली आई, प्राण जाई पर वचन ना जाई। इसलिए मैंने अपना वचन निभाया है। क्षेत्र की जनता की मांग थी कि बालोतरा जिला बने। बाड़मेर रिफाइनरी समेत कई कारण उन्होंने बालोतरा को जिला बनाने के लिए गिनाए। उन्होंने कहा बालोतरा जब तक जिला नहीं बनेगा तब तक दुख रहेगा। विधायक ने कहा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और कांग्रेस पार्टी ने उन्हें बहुत कुछ दिया है। पार्टी में उनकी आस्था है। उम्मीद है अशोक गहलोत उनकी यह मांग भी पूरी करेंगे।